Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for जून, 2007

याहू की ’पैप्स’ के जरिये आप जो ताजा ब्लोग पोस्ट पब्लिष करेग आप के गूगिल रीडर में अपने आप आ जायेगा। मेरा और नार्द यहू पैप्स में नीचे दियाहुआ लिंग में क्लिक करें। उसमें जो subscribe दिया हुआ हैं उस में क्लिक करके Add to Google दबायें। जो पन्ना आपके सामने आयेगा उस में Add to Google Reader को चुनें। गूगिल रीडर के कमाल आप खूद देख सकते है।

नारद के पन्ने में से उपलब्द होत होता हैं इस पर क्लिक करें। यह नारद के पन्ने से जुडा हुआ हैं।

यह कार्वाइ पूरा होनेकेलिये आप्को याहू के ई मेयिल ऐ डि और जि मेयिल ऐ डि होना जरूरि है। (हो सकता है यह चीजें आप को पहले से पता हो)

मेरा गूगिल रीडर यह मेरा गूगिल रीडर व्यू पन्ने हैं। पूर्ण रूप पर दे्खने केलिये क्लिक करें। keralafarmer याने कि मेरा पैप्स यह हैं।और मेरा गूगिल रीड्र यह हैं जओ बाँट सक्ता हैं।

कुच्छ चुने हुये पोस्टें

जो दहने की तरफ ऊपर settings की बाये तरफ हारे रंग के circle के अंदर एक आरो नजर आ रहा हैं वह online के निशानि हैं। उसपर दबाने से गूगिल रीडर save कर सक्ते हैं। बाद में बिना नेट के ओफ लैन में पढ सकता हैं।

Advertisements

Read Full Post »

सारे दुनियाँ में सम्पत्ती की लभ्यता पर भारत १२ स्थान पर पहूँचा हैं। उसकेलिये किसानों को कर्जेदार और गरीब रखना पडरहा हैं। रुपये की दाम उँचा रखनेकेलिये खाने पीने की चीजों का दाम कम रखना जरूरी हैं। उसकेलिये खेतों में उगलनेवाले धान्य की दाम कम रखने पर बेरोजगारी सरपर लेली हैं। उसी उद्देश प्राप्त करनेकेलिये तेल, गेहू आदि चीजों के आयात कर रहे हैं। बान्कों (Banks) की मुनाफा बडाने केलिये जमीन की documents जमा करके कर्ज या उदार देकर हुद्खुशी (suicide) करने केलिये मजबूर कर रहे हैं। विदर्फा में ८ घंटे में एक हुद्खुशी प्रधानमंत्री के पाकेज से पहले होता था अब ४ घंटे में एक हो गया। किसानों को मुनाफा होना कयी सालों से मना हैं।

किसानों को सपना देखने केलिये क्या क्या वादायें, तरीके, सुविधायें, बजट में भारि रकम वगैरा दिखाकर इस देश को सम्पन्न करने में केन्द्र सर्कार की तरफ से बहूत कुच्छ कर रहे हैं। घाटे में खेती कितने किसानों को कर सकेगा? अगर खेती की हाल कुच्छ साल यही होगा तो हमें खाने पीनेकेलिये सब्कुच्छ आयात करना पडेगा। किसान उत्पादक (producer) और consumer भी है। ऐसे हालात में सब्जी, चावल, गेहू आदि चीजों की सही दाम की लभ्यता चाह्ते हैं तो खाने पीने की चीजों की आयात बंद करना ही अच्छा होगा। किसानों के नाम पर आँसू बहाने से कोई भी कठिनाई हल नहीं होगा।  नारियल की तेल, पाँऒइल, सोयाबीन तेल वगैरह आयात करके सरसों, नारियल, मुम्फल्ली, सूरज मुखी आदि खेतियों के विनाश होरहा हैं। Agri business किसानों को लूट्नेकेलिये हैं।

जमीन की बर्बादी soil testing laboratories कर रहा है। एन.पि.के के जाँच और इस्तेमाल acidic soil बनाकर पौदों, पशु पक्षियों  और इन्सान को बीमारियाँ प्रदान कर रहे हैं। रासायनिक एन (नैट्रग्न) जमीन की इसतेमाल pH कम होने और पेड पौधों को भूखा मारते हैं। secondary neutrients & trace elements  के काम इन्को मालूम नहीं है क्या? जहरें झिडक कर जमीनि कीडाओं (earth worms) को मार दी और पीने की पानि भी बर्बाद करदी। दिन पर दिन कई किसम के बीमारियाँ फैल रहे है और इलाज मेहगा भी पडरहा हैं।  

Read Full Post »